Breaking News
Home 25 गाज़ियाबाद 25 25 जुलाई को मनाई जाएगी रामपुर के पूर्व सांसद राजेन्‍द्र कुमार शर्मा की पहली पुण्यतिथि

25 जुलाई को मनाई जाएगी रामपुर के पूर्व सांसद राजेन्‍द्र कुमार शर्मा की पहली पुण्यतिथि

Spread the love

गाजियाबाद । भाजपा की सक्रिय राजनीति में लंबे समय यूपी के रामपुर में लोगों के दिलों पर राज करने वाले पूर्व सांसद राजेन्‍द्र कुमार शर्मा की पहली पुण्यतिथि 25 जुलाई को मनाई जाएगी। पिछले साल इसी दिन 80 साल की उम्र में पूर्व सांसद राजेंद्र कुमार शर्मा का कोरोना संक्रमण के कारण नोएडा के कैलाश अस्पताल में निधन हो गया था । जहाँ वे 15 दिनों से भर्ती थे और उनका कोरोना का इलाज चल रहा था।

लम्बे समय तक भाजपा में सक्रिय रहने वाले पूर्व सांसद राजेन्‍द्र कुमार शर्मा अस्‍सी साल की उम्र भी अपने अंत समय तक लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहते थे। रामपुर में लोग उनका उतना ही सम्‍मान करते है जितना उनके सांसद रहते हुए करते थे। राजेन्‍द्र कुमार शर्मा रामपुर लोकसभा सीट से दो बार सांसद रह चुके थे। वे भारतीय जनता पार्टी के सदस्य थे, लेकिन पिछले कई सालों से पार्टी में उचित सम्‍मान नहीं मिलने के बाद उन्होंने सक्रिय राजनीति से किनारा कर लिया था। हालांकि उनके बेटे डॉक्टर अमित ने भाजपा का दामन छोड़कर समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली थी।

राजेंद्र कुमार शर्मा स्वार टांडा विधानसभा से अपने सियासी सफर की शुरूआत की थी। जहां से वे एक बार विधायक चुने गए। इसके बाद उन्होंने जिले की राजनीति शुरू की। 1977 में हुए लोकसभा चुनाव में लोकदल के टिकट पर राजेंद्र कुमार शर्मा ने इंडियन नेशनल कांग्रेस के नवाब जुल्फिकार अली उर्फ मिक्की मियां को हराकर पहली बार रामपुर से वह गैर कांग्रेसी सांसद बने। उन्होंने 1991 में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर लोकसभा का चुनाव लड़ा और दूसरी बार रामपुर लोकसभा सीट से सांसद बने। लेकिन, 1996 में हुए लोकसभा चुनाव में हार गए। उन्हें बेगम नूरबानो ने पराजित किया था। इसके बाद 2004 में भी वह भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़े, लेकिन, जीत नहीं सके। पिछले काफी समय से वह राजनीति में सक्रिय नहीं थे।

भाजपा के बड़े नेताओं से थे करीबी संबंध

राजेंद्र कुमार शर्मा की भारतीय जनता पार्टी में बड़ी पकड़ थी। उनके चुनाव में प्रचार के लिए भाजपा वरिष्ठ के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह भी रामपुर आए थे। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई से भी पूर्व सांसद के अच्छे संबंध थे।

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले पूर्व सांसद राजेंद्र शर्मा ने पार्टी में पुराने नेताओं को उचित सम्‍मान नहीं मिलने की नाराजगी के चलते भारतीय जनता पार्टी छोड़ दी थी। हांलाकि उन्‍होंने किसी दूसरे राजनीतिक दल का दामन नहीं था और राजनीतिक सक्रियता से किनारा कर लिया। इसके बावजूद अब भी रामपुर में लोग उनके पास अलग-अलग मुद्दो पर बातचीत करने व मदद मांगने के लिए आते थे। लोग उन्‍हें आज भी एक सांसद की तरह ही सम्‍मान देते थे। वे रामपुर के लाेगाें की यादाें में सदैव जिंदा रहेंगे। 25 जुलाई को जहाँ गाजियाबाद में स्वर्गीय राजेंद्र कुमार शर्मा के आवास पर उनके परिजनों ने पूर्व सांसद की बरसी (पुण्यतिथि) के आयोजन की तैयारी की है वहीं रामपुर में भी उनके समर्थक पुण्यतिथि पर प्रार्थना सभा करेंगे। पूर्व सांसद राजेंद्र शर्मा के पुत्र ने बताया की रविवार 25 जुलाई की सुबह उनके आवास पर पहले हवन व शांति पाठ होगा उसके बाद ब्रह्मभोज कराया जायेगा।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*