Breaking News
Home 25 दिल्ली 25 चीन के लिए जासूसी के आरोपी पत्रकार राजीव शर्मा को अब ईडी ने किया गिरफ्तार

चीन के लिए जासूसी के आरोपी पत्रकार राजीव शर्मा को अब ईडी ने किया गिरफ्तार

Spread the love

नई दिल्ली: पत्रकार राजीव शर्मा की मुश्किलें कम होंने का नाम नहीं ले रही है. ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग प्रिवेंशन एक्ट के तहत अब दिल्ली के स्वतंत्र पत्रकार राजीव शर्मा को गिरफ्तार किया है. उन पर पैसों के बदले चीनी खुफिया अधिकारियों को गोपनीय और संवेदनशील जानकारी मुहैया कराने का आरोप है.

बता दें कि किसी भी दर्ज मामलें में विदेश से लेन देन के मामलें में ईडी मामले की जांच शुरू कर गिरफ्तारी कर सकती है. ईडी से पहले दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने राजीव शर्मा को खुफिया एजेंसी की सूचना के आधार पर 14 सितंबर 2020 को गिरफ्तार किया था. राजीव के पास से कथित तौर पर गिरफ्तारी के दौरान रक्षा मंत्रालय के गोपनीय दस्तावेज मिले थे. पुलिस ने पत्रकार से पूछताछ के बाद एक चीनी महिला और उसके नेपाली सहयोगी को भी गिरफ्तार किया था.

राजीव शर्मा की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने दावा किया था कि रक्षा संबंधी अहम गोपनीय सूचनाएं चीनी खुफिया एजेंसी को देकर उन्होंने डेढ़ साल में 40 लाख रुपये कमाए थे. राजीव शर्मा को प्रत्येक सूचना के बदले 1000 डॉलर मिलते थे. डीसीपीस्पेशल सेल संजीव यादव ने तब बताया था कि राजीव चीनी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ में रक्षा मामलों पर लेख लिखते थे और वर्ष 2016 में चीनी एजेंट के संपर्क में आए थे. वह कुछ चीनी खुफिया अधिकारियों के संपर्क में भी थे.

यादव के मुताबिक 2016 से 2018 तक राजीव ने चीनी खुफिया अधिकारियों को संवेदनशील रक्षा और रणनीतिक जानकारी दी थी. वह विभिन्न देशों में कई स्थानों पर चीनी खुफिया अधिकारियों से भी मिलते थे. पुलिस के मुताबिक इन मीटिंग्स में भारत-चीन सीमा मुद्दे पर, सीमा पर सेना की तैनाती और सरकार द्वारा तैयार रणनीति आदि की जानकारी साझा की जाती थी.

चीनी मीडिया के लिए भी लिखे आर्टिकल
स्पे शल सेल के मुताबिक दिल्ली के पीतमपुरा निवासी राजीव शर्मा लगभग 40 साल से पत्रकारिता कर रहे हैं. भारत में कई मीडिया संस्थानों में एक पत्रकार के रूप में अपनी सेवाएं देने के अतिरिक्त उन्होंने एक स्वतंत्र पत्रकार के रूप में चीनी मीडिया एजेंसी ग्लोबल टाइम्स के लिए भी कई आर्टिकल लिखे हैं.

क्या है पूरा मामला?
स्वतंत्र पत्रकार राजीव शर्मा को दिल्ली पुलिस ने चीन की खुफिया एजेंसी के अधिकारियों से पैसे लेकर देश की रक्षा, सैन्य खरीद, सीमाओं पर सेना की योजना से जुड़े दस्तावेज देने के आरोप में गिरफ्तार किया था . बाद में पुलिस ने एक चीनी महिला और नेपाली युवक को भी गिरफ्तार किया था. इन पर शेल कंपनियों के माध्यम से पत्रकार राजीव शर्मा को बड़ी मात्रा में रुपये देने का आरोप है। इस मामले में 60 दिन के भीतर आरोप पत्र दाखिल नहीं किए जाने के आधार पर दिल्ली हाईकोर्ट ने 4 दिसंबर 2020 को शर्मा की जमानत मंजूर कर ली थी. राजीव शर्मा ने हाईकोर्ट से कहा था कि उसे झूठे मामले में फंसाया जा रहा है और उसने कोई अपराध नहीं किया है.
बताया जा रहा है कि राजीव के खिलाफ ईडी की जांच में राजीव के पास रकम में से पांच लाख रूपए का कोई हिसाब किताब नहीं मिला जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*