Breaking News
Home 25 दिल्ली 25 नूपुर शर्मा पर अदालत की टिप्पणी को लेकर सोशल मीडिया में खलबली, यूजर्स पूछ रहे- ये सुप्रीम कोर्ट है या शरिया कोर्ट?

नूपुर शर्मा पर अदालत की टिप्पणी को लेकर सोशल मीडिया में खलबली, यूजर्स पूछ रहे- ये सुप्रीम कोर्ट है या शरिया कोर्ट?

Spread the love

नई दिल्‍ली। नूपुर शर्मा मामने पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को लेकर सोशल मीडिया पर उबाल है। दरअसल में नूपुर शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर कहा था कि उनकी जान को खतरा है, ऐसे में वह देश के अलग-अलग हिस्सों में केसों की सुनवाई के लिए नहीं जा सकतीं। इसलिए सभी केसों को दिल्ली ट्रांसफर कर दिया जाए। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें कोई राहत तो नहीं दी, उलटे फटकार लगाते हुए कहा कि उनके एक बयान के चलते माहौल खराब हो गया। न्यायमूर्ति सूर्य कांत और न्यायमूर्ति जे बी पारदीवाला की बेंच ने कहा कि नुपूर की जुबान फिसलने से पूरा देश जल रहा है। कोर्ट में जस्टिस परदीवाला ने नुपूर के लिए ये भी कहा कि उनके गुस्से का ही नतीजा था कि उदयपुर में अनहोनी हुई और दर्जी की हत्या की गई। अदालत ने यह भी कहा कि उदयपुर में कन्हैया लाल की हत्या के लिए भी उनका ही बयान जिम्मेदार है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह पूरा विवाद टीवी डिबेट के जरिए ही फैला है और उन्हें वहीं पर जाकर पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। इसके साथ ही नूपुर शर्मा की ओर से सुरक्षा की मांग पर कोर्ट ने कहा कि उन्हें कोई खतरा नहीं है, लेकिन उनके बयान जरूर देश भर में खतरा बन गए हैं।

सर तन से जुदा का नारा लगाकर उदयपुर में मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने कन्हैया लाल का गला काट दिया। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए नूपुर शर्मा को जिम्मेदार बताया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह सब उनके कारण हुआ है और इसके लिए उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए। वैसे नूपुर शर्मा इसके लिए माफी मांग चुकी हैं। जब नुपूर शर्मा के वकील ने अदालत को बताया कि नुपूर ने इस मुद्दे पर सामने से माफी मांग ली है तो कोर्ट ने कहा कि उन्हें टीवी पर देश से माफी मांगनी चाहिए।

जबकि नूपुर शर्मा ने एक टीवी डिबेट के दौरान वहीं कहा था जो मुस्लिम धर्मगुरू जाकिर नाइक इस शांतिप्रिय समुदाय के सामने कह चुका है और यह किताबों में भी लिखा है। इसको लेकर आम लोगों में यह संदेश जा रहा है कि अगर नूपुर शर्मा गलत तो फिर किताब या जाकिर नाइक सही कैसे?

आखिर क्या था मामला?
नूपुर शर्मा ने एक न्यूज चैनल पर चर्चा के दौरान वाराणसी के ज्ञानवापी शिवलिंग को फव्वारा बताए जाने पर सवाल किया कि जैसे लोग बार-बार उनके भगवान का मजाक उड़ा रहे हैं, वैसे ही वो भी दूसरे धर्मों का भी मजाक उड़ा सकती हैं। इसके बाद नूपुर ने जो कुछ भी कहा, उसे मुस्लिम मौलाना जाकिर नाइक भी कह चुका है। सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने जाकिर नाइक का वो वीडियो भी शेयर किया, जिसमें वो हदीस के हवाले से मुसलमानों के बीच कहता दिख रहा है कि पैगंबर ने 6 साल की बच्ची से शादी की थी और 9 साल की उम्र में उससे शारीरिक संबंध बनाए थे। लेकिन यही बात जब नूपुर शर्मा ने कही तो दुनिया भर में बवाल हो गया। यहां आप सुनिए कि जाकिर नाइक ने क्या कहा था।

नूपुर शर्मा की टिप्पणी के बाद दुनिया भर के इस्लामी देशों ने विरोध करना शुरू कर दिया। इन मुस्लिम देशों में जहां ना तो सही मायने में लोकतंत्र है ना दूसरे धर्म को मानने की पूरी आजादी, दूसरों से धर्मनिरपेक्षता की बात करने लगे। इससे उन्होंने एक बात फिर साबित करने की कोशिश की कि कोई गैर-मुसलमान इस्लाम के बारे में कुछ नहीं बोल सकता, चाहे वो सही हो या गलत। जबकि हिंदू धर्म के बारे में चाहे कुछ भी बोल लो।सबसे बड़ी बात तो यह है कि जो नूपुर शर्मा को बयान को अपने धर्म का अपमान बता रहे थे वो खुद दूसरे की आस्था और धर्म का मजाक उड़ा रहे थे। ऐसे में कन्हैया लाल की हत्या के बीच नुपूर शर्मा को मिल रही धमकियों के बाद भी सुप्रीम कोर्ट की ऐसी टिप्पणियां सुन सोशल मीडिया पर यूजर्स अपनी नाराजगी जाहिर कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी से कट्टरपंथियों के हौंसले बुंलद होंगे । उन्हें लगेगा कि वो जो कर रहे हैं वो सही हैं और सारी गलती नुपूर शर्मा की ही है। इसके साथ ही यूजर्स यह भी पूछ रहे हैं कि ये सुप्रीम कोर्ट है या शरिया कोर्ट? देखिए सोशल मीडिया पर यूजर्स किस तरह से रिएक्ट कर रहे हैं-

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*