Breaking News
Home 25 देश 25 क्या पंजाब में आप सरकार बनने के बाद तेज हो रही है आतंकवाद को जिंदा करने की कोशिशें ? आईएसआई तेजी से बना रही स्लीपर सेल

क्या पंजाब में आप सरकार बनने के बाद तेज हो रही है आतंकवाद को जिंदा करने की कोशिशें ? आईएसआई तेजी से बना रही स्लीपर सेल

Spread the love

नई दिल्‍ली। पंजाब में जिसका डर था वही हुआ। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा था कि इस सरहदी प्रदेश को किन्हीं असुरक्षित हाथों में नहीं सौंपा जा सकता। क्योंकि ऐसा होने पर भविष्य में इसके घातक परिणाम सामने आ सकते हैं। लेकिन पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद मान सरकार की लापरवाही, शासन-प्रशासन पर कमजोर पकड़, खालिस्तानी सोच को अप्रत्यक्ष सहयोग का दुष्परिणाम है कि राज्य में हालात इतनी जल्दी बदतर होने लगे हैं। पिछले माह 23 अप्रैल को चंडीगढ़ स्थित बुड़ैल जेल के बाहर टिफिन बम मिला। जिसके भीतर करीब डेढ़ किलो RDX भरा हुआ था। 5 मई को हरियाणा की करनाल पुलिस ने इनोवा कार में सवार 4 आतंकियों को पकड़ा। जो 4 किलो RDX लेकर जा रहे थे। इसके बाद तरनतारन में खंडहर में छिपाया साढ़े 3 किलो RDX बरामद किया गया। और अब पंजाब पुलिस के इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर पर हमला कर बिल्डिंग उड़ाने की साजिश तक रच डाली है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की तरफ से पंजाब में स्लीपर सेल को बढ़ावा दिया जा रहा है और उनको पैसे के अलावा अन्य प्रलोभन दिए जा रहे हैं। केंद्रीय गुप्तचर एजेंसियों के अनुसार पंजाब में गैंगस्टर व बेरोजगार युवकों को खालिस्तान लहर से फिर से जोड़ा रहा है।

पंजाब का माहौल खराब करने के लिए इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर को उड़ाने की रची साजिश
पंजाब के डीजीपी वीके भावरा के मुताबिक पंजाब पुलिस के मोहाली स्थित इंटेलिजेंस विंग के हेडक्वार्टर पर हमले में विस्फोटक के तौर पर ट्राइ नाइट्रो टाल्यून (TNT) का इस्तेमाल हो सकता है। मीडिया से बातचीत में भावरा ने कहा कि हेडक्वार्टर पर प्रोजेक्टाइल से हमला किया गया है। जिस वक्त हमला हुआ, कमरे में कोई नहीं था। इसका इंपैक्ट भी दीवार पर आया है। इस मामले में आतंकी हमले के एंगल पर उन्होंने कहा कि अभी इसकी जांच की जा रही है। हालांकि इससे पूरी तरह इनकार भी नहीं किया जा सकता। पंजाब पुलिस ने अंबाला से एक संदिग्ध को हिरासत में लिया है। इसी पर धमाका करने का शक है। पंजाब पुलिस उसे अंबाला से मोहाली ला रही है।

निशाना चूकने से विस्फोटक खिड़की के अंदर जाने के बजाय दीवार से टकराया
पुलिस इंटेलिजेंस के सूत्रों से बड़ी जानकारी सामने आई है। इस हमले के जरिए इंटेलिजेंस हेडक्वार्टर की बिल्डिंग को उड़ाने की साजिश थी। निशाना चूक गया। विस्फोटक खिड़की के अंदर जाने के बजाय दीवार से टकरा गया। रक्षा विशेषज्ञ भी मान रहे हैं कि अगर विस्फोटक सीधे कमरे में जाता तो बड़ा नुकसान हो सकता था। इस मामले में पुलिस ने दो संदिग्ध हिरासत में लिए हैं। सूत्रों के मुताबिक विदेशी हैंडलरों ने ही यह टास्क दिया था। इस बिल्डिंग में पंजाब पुलिस के आर्गेनाइज्ड क्राइम कंट्रोल यूनिट (OCCU) और एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स (AGTF) का ऑफिस भी है। ऐसे में इसके पीछे गैंगस्टरों का भी हाथ होने की संभावना जताई जा रही है।

रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड का इस्तेमाह अफगानिस्तान में तालिबान युद्ध में हुआ था
पंजाब पुलिस के मुताबिक इस हमले में रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड (RPG) का इस्तेमाल किया गया है। रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड से किसी भी टैंक, बख्तरबंद गाड़ी, हेलिकॉप्टर या विमान को उड़ाया जा सकता है। इसकी रेंज 700 मीटर होती है। रॉकेट से चलने वाला ग्रेनेड कंधे पर रखकर दागा जाता है। यह मिसाइल हथियार है जो विस्फोटक वारहेड से लैस रॉकेट लॉन्च करता है। अधिकांश RPG को एक व्यक्ति द्वारा ले जाया जा सकता है, यानी इसे अकेले कोई शख्स ऑपरेट कर सकता है। हाल ही में अफगानिस्तान में तालिबान युद्ध के दौरान इसका इस्तेमाल किया गया था।

खालिस्तान जिंदाबाद के पोस्टर और लगातार आरडीएक्स मिलना गहरे खतरे के संकेत
हरियाणा में पंजाब के आतंकियों से विस्फोटक सामग्री बरामद होने के चंद घंटों में हिमाचल के विधानसभा के बाहर खालिस्तान जिंदाबाद के पोस्टर व तरनतारन में आरडीएक्स की बरामदगी से यह साफ हो गया है कि राज्य में आतंकवाद के काले बादल मंडरा रहे हैं। मान सरकार के हाथ पर हाथ धरे बैठे होने के कारण पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की तरफ से पंजाब में स्लीपर सेल को बढ़ावा दिया जा रहा है। गैंगस्टर हरविंदर सिंह रिंदा के पाक पहुंचने और वहां से गैंगस्टर जयपाल भुल्लर और दिलप्रीत बाबा से संपर्क ने केंद्रीय एजेंसियों को नए सिरे से होमवर्क करने के लिए मजबूर कर दिया है।

आप सरकार आने के बाद पाकिस्तान में शरण ले चुके खालिस्तान समर्थक करने लगे कोशिशें
दरअसल, यह कोई छिपा हुआ तथ्य नहीं है कि पंजाब में आतंकवाद को जिंदा करने की नापाक कोशिश लंबे समय से पाकिस्तान द्वारा की जा रही थीं, लेकिन अब पंजाब में आप सरकार आ जाने के कारण इन कोशिशों को अमलीजामा पहनाने के मंसूबे परवान चढ़ने लगे हैं। हैरानी की बात यह है कि पंजाब से फरार होकर पाकिस्तान में शरण ले चुके आतंकवादी बब्बर खालसा चीफ वधावा सिंह, खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स के चीफ रंजीत सिंह नीटा, इंडियन सिख यूथ फेडरेशन के चीफ भाई लखबीर सिंह रोडे, खालिस्तान कमांडो फोर्स के परमजीत सिंह पंजवड़ का इस्तेमाल खुले तौर पर अब पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई कर रही है।

एनआईए की जांच में सामने आया कि पंजाब में स्लीपर सेल का नेटवर्क हो रहा तैयार
चौंकाने वाली बात है कि आतंकी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल (बीकेआई) को यूके के रहने वाले आतंकी गुरप्रीत सिंह खालसा ने तैयार किया है। उसके साथी अमृतपाल ने काफी युवाओं को इसका हिस्सा बना दिया था। उसकी नजर उन युवाओं पर होता है जो बेरोजगारी के कारण हताश होते थे। इंडियन सिख यूथ फेडरेशन के चीफ लखबीर सिंह रोडे ने ड्रोन के जरिये पंजाब में टिफिन बम भेजे थे, जिसका मकसद पंजाब में दहशत फैलाना था। एनआईए की जांच में सामने आया कि रोडे ने पंजाब में जबरदस्त स्लीपर सेल का नेटवर्क तैयार कर रखा है, जिसमें 200 के करीब युवाओं को जोड़ा जा चुका था। टिफिन बम बरामद होने के बाद भी एजेंसियां काफी हिस्सा इसलिए नहीं खोज पाई हैं, क्योंकि स्लीपर सेल ने टिफिन बम एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचा दिए थे।

पंजाब में बेरोजगारी बढ़ने से हताश और निराश युवाओं को दे रहे हैं प्रलोभन
केंद्रीय एजेंसियों के आला अधिकारियों के मुताबिक पंजाब में गैंगस्टर कल्चर काफी बढ़ चुका है और 5 हजार से अधिक युवा गैंगस्टरों के साथ जुड़े हुए हैं और इतना ही नहीं, पंजाब में बेरोजगारी की दर बाकी सूबों के मुकाबले में अधिक है। आप की मान सरकार बनने के बाद इसमें और इजाफा हुआ है। राज्य में बेरोजगारी की दर 7.4 प्रतिशत है, जो केंद्रीय बेरोजगारी दर 4.8 प्रतिशत से काफी अधिक है। इसका असर भी आतंकवाद को जिंदा करने की कोशिश पर हो रहा है। पंजाब के युवा हताश व निराश हैं, इसलिए उनको लालच के जाल में फंसाया जाना आसान है। यही वजह कि सिख फॉर जस्टिस आतंकवादी संगठन के चीफ गुरपतवंत सिंह पन्नू व उनके साथी पंजाब के युवाओं को लालच देकर फंसा रहे हैं।


खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस पंजाब की स्थिति को बिगाड़ने का प्रयासरत
आईबी के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक, इटली, कनाडा और अमेरिका के अलावा पाकिस्तान के देशद्रोही समूह लोगों को उकसा रहे हैं और पंजाब की स्थिति को बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं। एजेंसियों के अधिकारियों के मुताबिक, चंडीगढ़ के बुड़ैल जेल को उड़ाने की कोशिश की गई थी। इस जेल में कई खालिस्तानी कट्टरपंथी और गैंगस्टर बंद हैं। 15 अप्रैल को खालिस्तानी आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस के प्रमुख गुरपतवंत सिंह पन्नू ने हरियाणा के जिलाधिकारियों के कार्यालयों पर खालिस्तान का झंडा फहराने की अपील की थी। पन्नू ने ‘हरियाणा बनेगा खालिस्तान’ नाम से एक पत्र जारी किया था। इसमें उसने गुरुग्राम के डीसी ऑफिस पर 29 अप्रैल को खालिस्तान का झंडा लगाने का एलान किया था। इसके साथ ही खालिस्तान के लिए हरियाणा में रेफरेंडम की बात भी कही थी। पन्नू ने एलान किया था कि अब पंजाब में अगर कोई व्यक्ति खालिस्तान का झंडा फहराता है तो उसे 2500 डॉलर का इनाम दिया जाएगा। अगर कोई लाल किला दिल्ली में जाकर खालिस्तान का केसरी झंडा लहराएगा तो उसे सवा लाख डालर का इनाम दिया जाएगा।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*