Breaking News
Home 25 गाज़ियाबाद 25 मामा नरेश त्यागी की हत्या में वांछित मुरादनगर विधायक के भाई गिरीश त्यागी का कोर्ट में सरेंडर

मामा नरेश त्यागी की हत्या में वांछित मुरादनगर विधायक के भाई गिरीश त्यागी का कोर्ट में सरेंडर

Spread the love

गाजियाबाद। मुरादनगर से बीजेपी विधायक अजीतपाल त्यागी के मामा नरेश त्यागी की पिछले साल 9 अक्टूबर को लोहिया नगर में मॉर्निंग वाक के दौरान हुई हत्या में वांछित चल रहे उनके बड़े भाई गिरीश त्यागी ने सोमवार को गाजियाबाद की सीजेएम कोर्ट में आत्म‍सर्मपण कर दिया। नरेश त्यागी पूर्व कैबीनेट मंत्री राजपाल त्यागी के साले थे । गिरीश त्यागी नरेश हत्याकांड में पिछले एक साल से वांछित था।

रविवार को ही नरेश त्यागी के बेटे अभिषेक त्यागी ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के आवास पर गिरीश की गिरफ्तारी न होंने के कारण 10 नवंबर से अनशन करने की चेतावनी दी थी। जिसके बाद सोमवार का गिरीश त्यािगी पहले से दिए गए आत्मसर्मपण के प्रार्थना पत्र पर अपने अधिवक्ता के साथ सीजेएम कोर्ट में आत्म सर्मपण करने पहुंचे। अदालत ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

आपकों बता दें कि नरेश त्यागी हत्याकांड में गाजियाबाद पुलिस ने साजिश रचने के आरोप में हिन्दू युवा वाहिनी के पूर्व अध्यक्ष जितेन्द्र त्यागी समेत दो शूटर व एक अन्य आरोपी को पहले ही गिरफ्तार कर मामले का पटाक्षेप कर दिया गया था।

इस साजिश के मास्ट माइंड बताए जा रहे विधायक अजीतपाल त्यागी के बड़े भाई गिरीश त्यागी की पुलिस तभी से जोर शोर से तलाश कर रही थी। जिन्होंने राजनीतिक रंजिश में विधायक अजीत त्याागी को कमजोर करने के लिए उनके मददगार अपने मामा नरेश त्यागी को रास्ते से हटाने की साजिश रची थी।

This image has an empty alt attribute; its file name is naresh-pal-tyagi.jpg

पिछले साल तत्कालीन एसएसपी कलानिधि नैथानी के कार्यकाल में जितेन्द्र त्यागी के अलावा, मोदीनगर निवासी विपिन शर्मा, गुलावठी, बुलंदशहर को अर्णव चौधरी को गिरफ्तार किया था।
जितेन्द्र त्या्गी के कहने पर सद्दीक नगर निवासी मनोज कुमार ने उन दोनों को दो लाख रूपए की सुपारी लेकर हत्या करने के लिए राजी किया था और उसी ने हत्या के लिए हथियार उपलब्घ कराए थे। पुलिस ने मनोज को भी साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया था।

सिहानी गेट पुलिस ने वारदात का खुलासा करने के लिए 100 से अधिक सीसीटीवी कैमरों की पड़ताल की थी और पांच सौ से अधिक मोबाइल फोन की सीडीआर खंगाली थी जिसके बाद पुलिस को हत्या में परिवार के भीतर ही रची गई साजिश के सुराग मिले।

This image has an empty alt attribute; its file name is ajeet-pal-tyagi.jpg
अजीतपाल त्यागी

पुलिस के मुताबिक वारदात को जिस दिन अंजाम दिया गया था विधायक अजीत पाल के भाई गिरीश त्या़गी और दूसरी साजिशकर्ता जितेन्द्र त्यागी लखनऊ चले गए थे ताकि किसी को उन पर शक न हो। इतना ही जब पुलिस के हाथ गिरीश त्यागी की तरफ बढने लगे तो उनके पिता और पूर्व मंत्री राजपाल त्यागी ने पुलिस पर दबाव बनाने के लिए प्रेस वार्ता करके आरोप लगाया कि उनका विधायक बेटा अजीत पाल त्यागी पुलिस के साथ मिलकर उनके दूसरे बेटे गिरीश को मामा की हत्या में फंसाने की साजिश कर रहा है।

इस हत्याकांड के मुख्यआरोपी बताए गए जितेन्द्र त्या‍गी जो हिन्दू युवा वाहिनी का पूर्व जिलाध्याक्ष रह चुका है उसके अजीतपाल त्याागी के भाई गिरीश त्यागी से करीबी संबध थे। गिरीश को लगने लगा था कि अजीत के कारण उसका राजनीतिक कैरियर खत्म हो रहा है और उनकी जगह अजीतपाल मामा नरेश त्यागी को आगे बढा रहा है। इसी कारण गिरीश ने जितेन्द्र त्यागी से कहकर नरेश त्यागी की हत्या को अंजाम दिलाया था।

This image has an empty alt attribute; its file name is jitendra-tyagi-in-police-custody.jpg
जितेन्‍द्र त्‍यागी, हिन्‍दू युवा वाहिनी का पूर्व जिलाध्‍यक्ष

पुलिस ने विपिन, अर्णव और मनोज को गिाफ्तार करने के बाद हत्या‍ में प्रयुक्त की गई स्कूटी और 30 बोर का पिस्टल व तमंचा कारतूस समेत बरामद किया थे। हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता गिरीश त्यागी तभी से फरार चल रहा था, उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें छापामारी कर रही थी।

दिलचस्प बात ये है कि गिरीश त्यागी ने उस वक्त अदालत में सर्मपण किया है जब कुछ दिन पहले ही इस मामलें के अन्य आरोपियों की जमानत हो चुकी है। ऐसे में इसी आधार पर गिरीश त्यागी की अगले कुछ दिनों में ही जमानत होने की संभावना जताई जा रही है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*